12 दिसंबर 2017

..... मेरी देह अधूरी है - संजय भास्कर

मन को छू लें वो शब्‍द अच्‍छे लगते हैं, उन शब्‍दों के भाव जोड़ देते हैं अंजान होने के बाद भी एक दूसरे को सदा के लिए सीमा सिंघल यानि मेरी दीदी ( सदा जी जो आवाज है दिल की ) ब्लॉगजगत में सभी परिचित है सदा जी की की रचनाएँ अपने आप में अनूठी है जो सीधे दिल को छूती है हर व्यक्ति की संवेदनाओ को आकृति देती कविताये जीवंत लगती है सदा जी रचनाओं की एक और खासियत इनकी रचनाओ के भाव मन को झकझोर देते है सदा जी की रचनाये मात्र शब्द कौशल की बानगी नहीं है इनकी कविताये सहज होते हुए भी पाठक के चिंतन को कुरेदता है .....!!
मेरी देह अधूरी है सदा दी की लिखी पंक्तियाँ जिसे मैं लगभग 20 बार पढ़ चूका हूँ रचना की पंक्तियाँ आज साँझा कर रहा हूँ उम्मीद है सभी पसंद आएगी ............!!


ये सच है
मेरी देह अधूरी है
पर मेरी आत्‍मा पूरी है
इसमें भी वैसे ही सपने बसते हैं
जैसे किसी सक्षम व्‍यक्ति के होते हैं
मेरे लिये बैसाखियां भी सहारा नहीं बनी
मुझे हांथों से ही सारा काम करना होता है
खाना भी बनाती हूं, चलती भी हूं, इन्‍हीं हांथों से
पर आश्रित नहीं हूं मैं किसी की
मेरी ही तरह स्‍वाभिमानी हैं वो भी साथी मेरे
जो चलते हैं बैसाखियों के सहारे
या अंधेरा है जिनके जीवन में जन्‍म से
फिर भी एक ऊर्जा है जीवन में कुछ कर गुजरने की
जाने क्‍यों लोग हम पर तरस खाते हैं,

सच कहूं तो.... हमें दया से
आगे बढ़ने की प्रेरणा नहीं मिलती ....
हम पल दो पल के लिए दिशाविहीन हो जाते हैं
लोगों के परोपकार से,
पर दूसरे ही पल फिर तैयार हो जाते हैं
ईश्‍वर ने जो हमें अधूरी देह के साथ इस धरा पर भेजा है
हम उसकी कभी शिकायत नहीं करते
आगे बढ़ने का हौसला कायम रखते हैं
निराशा के पलों मे
आंसुओं की बूंदों से आशा के मोती सहेजती
हमारी हथेलियां कुछ कर गुज़रने की चाहत में
स्‍वयं ही पोछती हैं अश्‍को को
मंजिल की तलाश में हमारे कदम
स्‍वयं ही आगे बढ़ते जाते हैं 
हम आधी-अधूरी जिन्‍दगी से
पूरे जीवन को सच्‍चाई से जीते जाते हैं .....!!


मेरी और से एक बार पुन: सदा जी को निरंतर लेखन के लिए को ढेरों शुभकामनाएँ........!!


( C ) संजय भास्कर 

02 दिसंबर 2017

पापा आप हो सबसे ख़ास -2 दिसम्बर जन्मदिन पर विशेष

2 दिसम्बर आज मेरे पापा का जन्मदिन है सबसे पहले पापा जी को जन्मदिन की ढेर सारी शुभकामनायें माँ के बाद अगर कोई हमारे दिल के करीब होता है वो है पिता पिता का प्यार माँ की तरह दिखता नहीं है पर हमे अंदर से बहुत मजबूती देता है दिल की गहराईयों से निकले कुछ शब्द कविता के रूप में ....!!

पापा आप कभी प्यार नहीं जताते
कभी पसंद नहीं पूछते फिर भी
हमारी पसंद की हर चीज़
बिन कहे ही ला देते हो जाने कैसे
यही तो खासयित है आपकी
कि मन की सारी बातें फिर भी
जान जाते हो 
आप मेरे जीवन में
अदृश्य रूप से 
शामिल अपना 
अस्तित्व बोध 
करवाते 
बेशक माँ नहीं
मगर माँ से 
कम भी नहीं
माँ को तो मैंने
अपनी साँसों के 
साथ जान लिया 
मगर आपको 
आप जिसके कारण
मेरा वजूद 
मेरी ज़िन्दगी 
के हर कदम पर
मेरी ऊंगली थामे
आपका स्नेहमय स्पर्श
हमेशा आपके
मेरे साथ होने 
के अहसास को
पुख्ता करता गया
मेरे हर कदम में
होंसला बढाता गया
मुझे दुनिया से 
लड़ने का जज्बा
देता गया
मुझे पिता में छुपे
दोस्त का जब 
अहसास हुआ 
तब मैंने खुद को
संपूर्ण पाया 
अब एक मुकाम 
पा गया अस्तित्व मेरा
मगर आप अब भी
उसी तरह 
फिक्रमंद नज़र आते हो
चाहे खुद हर 
तकलीफ झेल जाओ
मगर मेरी तकलीफ में
आज भी वैसे ही 
कराहते हो
अब चाहता हूँ
कुछ करूँ 
आपके लिए
मगर आपके
स्नेह,त्याग और समर्पण
के आगे मेरा 
हर कदम तुच्छ 
जान पड़ता है
चाहता हूँ 
जब कभी जरूरत हो
आपको मेरी 
आपके हर कदम पर
आपके साथ खड़ा रहूँ मैं.....
हम तीनो भाइयों की और से पिताजी को जन्मदिवस की ढेर सारी शुभकामनायें..........!!

-- संजय भास्क

18 नवंबर 2017

कुछ मेरी कलम से श्वेता सिन्हा और मीना भारद्वाज जी के लिए :)

मीना भरद्वाज जी ( ब्लॉग मंथन ) ओर श्वेता सिन्हा जी ( मन का पाखी ) लगभग एक साल से दोनों को ब्लॉग के माध्यम से पढ़ रहा हूँ एक से बढ़कर एक मर्मस्पर्शी व सटीक रचनाएँ कुछ कविताओं ओर हाइकु ने सीधे दिल पर दस्तक दी है दोनों ही लेखिकाओं का कम समय में बढ़िया लेखन पढ़ने को मिला दोनों की लेखनी से प्रभावित होकर ही दोनों के बारे में लिख रहा हूँ पर शायद किसी के बारे में लिखना मेरे लिए बड़ी उपलब्धि है दोनों लेखिकाओं के ब्लॉग से कुछ पंक्तिया साँझा कर रहा हूँ उम्मीद है सभी पसंद आये ........!!
मीना भरद्वाज की लिखी मेरी पसंदीदा रचना......पुरानी‎ फाइलों में पड़ा खत एक खत
एक दिन पुरानी‎ फाइलों में
कुछ ढूंढते ढूंढते
अंगुलि‎यों से तुम्हारा‎
ख़त  टकरा गया
कोरे  पन्ने पर बिखरे
चन्द  अल्फाज़…, जिनमें
अपने अपनेपन की यादें
पूरी शिद्दत के साथ मौजूद थी
मौजूद तो गुलाब की
कुछ पंखुड़ियां भी थी
जो तुमने मेरे जन्मदिन पर
बड़े जतन  से
खत के साथ भेजी थी .,
उनका सुर्ख रंग
कुछ‎  खो सा गया है
हमारे रिश्ते का रंग भी अब
उन पंखुड़ियों की तरह
कुछ और सा गया है !

-- मीना भरद्वाज 
श्वेता सिन्हा की लिखी मेरी पसंदीदा रचना .............शहीदों के लिए 

कडी़ निंदा करने का अच्छा दस्तूर हो गया
कब समझोगे फिर से बेटा माँ से दूर हो गया

रोती बेवाओं का दर्द कोई न जान पाया
और वो पत्थरबाज देश में मशहूर हो गया

कागज़ पर बयानबाजी अब बंद भी करो तुम
माँगे है इंसाफ क्या वीरों का खूं फिजूल हो गया

सह रहे हो मुट्ठीभर भेड़ियों की मनमानी को
शेर ए हिंदुस्तान इतना कबसे मजबूर हो गया

दंड दो प्रतिशोध लो एक निर्णय तो अब कठोर लो
हुक्मरानों की नीति का हरजाना तो भरपूर हो गया

उपचार तो करना होगा इस दर्द बेहिसाब का
सीमा का जख्म पककर अब नासूर हो गया

-- श्वेता सिन्हा


मेरी और से एक बार पुन: दोनों को निरंतर लेखन के लिए को ढेरों शुभकामनाएँ............!!

-- संजय भास्कर